ब्लॉग

Ye Dosti Special Hai

Dosti Special Hai, Happy Friendship Day. दोस्ती है ही ऐसी चीज़ जो जब तक करी ना जाए, समझ नहीं आती। ये लंबी या छोटी नहीं होती, ये बस हो जाती है। 

Sometimes God sends us Angels, disguised as Friends.


Dosti Special Hai, Happy Friendship Day. दोस्ती है ही ऐसी चीज़ जो जब तक करी ना जाए, समझ नहीं आती। ये लंबी या छोटी नहीं होती, ये बस हो जाती है।

🙂 दोस्ती वो है, जो बचपन में गुल्ली डंडे खेलने के लिए हुई थी।

दोस्ती वो है, जो हर बारिश में कीचड़ में छप्प करने वाले मुस्कुराते चहरे से हो जाती है।

🙂 दोस्ती उन भाई बहन की भी है, जो बिल्ली के बच्चे को दूध पिलाने के लिए चुपके से मां के किचन में होती है।

दोस्ती वो भी है, जो गिरा दूध पिलाने के लिए कुत्ते से होती है।

🙂 दोस्ती उस क्लासमेट से भी होती है, जो होमवर्क ने होने पर अपनी कॉपी दे दे।

Dosti Special Hai, Happy Friendship Day. दोस्ती है ही ऐसी चीज़ जो जब तक करी ना जाए, समझ नहीं आती। ये लंबी या छोटी नहीं होती, ये बस हो जाती है।

Dosti Special Hai,

दोस्ती उससे भी होती है जो, प्रैक्टिकल कॉपी में आपके लिए ड्रॉईंग बना दे।

🙂दोस्ती उन दोस्तों से भी होती है, जो साइकिल हाथ में लेकर भी पैदल साथ चलते हैं।

दोस्ती स्कूल में मिले उस पहले चहरे से भी होती है, जो आके पूछले, तू खाना लाया है कि नहीं, ले ये खा ले, मेरी मां बहुत ज्यादा देती है।

🙂दोस्ती उन आधे समोसों वाली भी होती है, जो बस स्टैंड पर जाकर पॉकेट मनी से खरीदे जाते हैं।

दोस्ती उस पुलिया वाली भी होती है, वो पूरे दिन की बात करवाती है।


Dosti Special Hai, Happy Friendship Day. दोस्ती है ही ऐसी चीज़ जो जब तक करी ना जाए, समझ नहीं आती। ये लंबी या छोटी नहीं होती, ये बस हो जाती है।

Dosti Special Hai,

🙂दोस्ती उस हॉस्टल वाले से भी होती है, जो इंजीनियरिंग की रैगिंग में पूरी रात साथ रहता है।

दोस्ती उस अनजान से भी होती है, जो गुम जाने पर रास्ता बता दे।

🙂 दोस्ती उस मां से भी होती है, जो हर बार, पापा की मार से बचा ले।

🙂दोस्ती उस पिता की भी ऐसी है, जो हर बार गलतियों पे भी बस निहारे।

दोस्ती उस मौसी से भी ऐसी है, की उससे ही लड़ के, उसकी सीढ़ी के नीचे अपना घर बना लें।


Dosti Special Hai, Happy Friendship Day. दोस्ती है ही ऐसी चीज़ जो जब तक करी ना जाए, समझ नहीं आती। ये लंबी या छोटी नहीं होती, ये बस हो जाती है।

Dosti Special Hai,

🙂 दोस्ती उन मुस्कुराते चहरों से भी है, जो हंसके भाभी कहते है।

दोस्ती उन सालों से भी है, जो जीजाजी जीजाजी कह कर साथ रहते हैं।

🙂दोस्ती उन सांस बहू की भी है, जो हर दिन लड़े, पर साथ रहती हैं।

दोस्ती उस यात्री से भी है, जो हर दिन यूं ही मुस्कुराके मिलता है।

🙂दोस्ती उस पान वाले से भी है, जो हर दिन पान के साथ एक कॉम्प्लीमेंट देता है।


Dosti Special Hai, Happy Friendship Day. दोस्ती है ही ऐसी चीज़ जो जब तक करी ना जाए, समझ नहीं आती। ये लंबी या छोटी नहीं होती, ये बस हो जाती है।

Dosti Special Hai,

🙂दोस्ती तो उस भीड़ से भी है, जो सुबह पार्क में चलती है।

दोस्ती उन चार औरतों में भी है, जो समाज में मिलती हैं।

🙂दोस्ती उस चौपाल में भी तो है, जो हर शाम मिलती है।

दोस्ती उन प्लेयर्स में भी है, जो पब जी में मिलते हैं।

🙂दोस्ती उन थके लोगों की भी है, जो हर शाम महफ़िल में मिलते हैं।


Dosti Special Hai, Happy Friendship Day. दोस्ती है ही ऐसी चीज़ जो जब तक करी ना जाए, समझ नहीं आती। ये लंबी या छोटी नहीं होती, ये बस हो जाती है।

Dosti Special Hai,

दोस्ती ये उन सबकी भी है जो बिन मिले facebook, twitter, WhatsApp में होती है।

🙂दोस्ती वो भी है वो नॉनवेज की पार्टी में बिन बोले पुलाव और टमाटर की चटनी बना दे।

दोस्ती वो भी तो है, जब पार्टी से आते हुए, वो बोले, आज गाड़ी तेरा भाई चलाएगा।

🙂दोस्ती उस रिश्ते में भी है, जो पूरी लाइफ के जुड़ते हैं।

दोस्ती वो भी है, जो कह सके हर फ्रेंड जरूरी होता है।

शायद दोस्ती हर वो रिश्ता है, जिसका कोई नाम नहीं होता।


Dosti Special Hai, Happy Friendship Day. दोस्ती है ही ऐसी चीज़ जो जब तक करी ना जाए, समझ नहीं आती। ये लंबी या छोटी नहीं होती, ये बस हो जाती है।

🌸 कुछ रिश्तों के नाम थे यूं ही, 

कुछ रिश्तों को नाम दे दिए, 

🌸 रिश्तों के काम थे यूं ही, 

कुछ रिश्तों को काम दे दिए।

Dosti Special Hai, Happy Friendship Day

Dosti Special Hai, Happy Friendship Day. दोस्ती है ही ऐसी चीज़ जो जब तक करी ना जाए, समझ नहीं आती। ये लंबी या छोटी नहीं होती, ये बस हो जाती है।

5 replies »

  1. दोस्ती उससे भी होती है जो कुछ भूल जाए
    दोस्ती उससे भी होती है जो हर बात का जिम्मा अपने पे ले
    दोस्ती उस कॉफी से भी होती है जो चाहे कितनी भी कड़वी हो मगर दोस्त के साथ मज़ा देती है

    एक bitter chocohlate जिसे कोई खाना नही चाहा मगर कुछ दोस्त आपस मे जब साथ बैठे तो चुटकी मे खतम फिर सबको और चाहिए थी

    दोस्ती वो भी है जा अचानक से देर रात कोई आपके यहाँ आये और बोले चल घर छोड के आ

    दोस्ती उससे भी होती है जो भरे हुए पेट मे भी और खिलाए फिर चाहे किसी पुलिये पे रात बीते

    दोस्ती वो भी की पढ्ने के नाम पर पोहे खाए जाय वो भी अब तक के सबसे स्वादिस्ट
    दोस्ती उनसे भी होती है जो हमरे लिये घर से पिकनिकी इजाजत मांगे

    दोस्ती उससे भी होती है जो बोले

    मै हुँ ना

    Like

  2. Birth is the
    Start of life
    Beauty is the
    Art of life
    Love is the
    Part of life
    But,
    Friendship is the
    HEART OF LIFE

    Like

hi there, thanks for visiting. Please give your feedback.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s