Blog Feed

Posted in stories

Deleting everything sad from Life, Happy Heart Forever.

Life, Nothing Sad. Deleting everything sad from Life – Happy Heart Forever. I am sitting on a swing. A swing that I always see from my window. But, I never thought I would ever get a chance to come here and sit. Today I am here right now. And the only thought that is repeatedly coming to my mind is about all the experiences of my life that were hurting.

life is a mix of many emotions happiness, sadness, disgust, fear, surprise, and anger, pride, shame, embarrassment, excitement and many more.

 I understand that Life is a mixed experience of  emotions and it starts from the very first day. The day we are born. We cry to fulfill our needs, we learn. If we like or are pleased with something, we smile, we laugh. We learn to crawl, walk. After falling several times while trying, we learn. We understood that we do not want to walk in rough surface, because it hurts, we learn this and we grow. We learn and we grow.

When we try to recollect, some events we remember, some we don’t. We know that if we touch hot oil, we will get burnt. We know if we touch a live wire, we will get shock. Some learning we get by achievements, some by failures. But we learn. And surprisingly, at later stages of life, we don’t remember the reason for the learning in most of the cases.

I also know that life is a mix of many emotions happiness, sadness, disgust, fear, surprise, and anger, pride, shame, embarrassment, excitement and many more.

I know this all. This is what I have heard. This is what all of us have heard. Time and again. It’s life. These emotions are different colours of this life, and whatnot. 

If someone asks you to recall event for your life related to each section. Can you?

When  I asked this question to myself, I could not answer. Ok, some credit surely goes to memory. But still. 

What I remembered, were the incidents when I was hurt. But surprisingly, not by things , but by the people. And again today while recalling it hurts. What I remembered, were some good times I spent with people around. Every memory brings back some emotions.

But, what I noticed, was that, all the good memories stayed for little and the emotional baggage of hurt and pain stayed for a comparatively longer time.

What if we find an option of select all and delete?

I would have deleted all the memories associated with pain, hurt, agony and all similar kind.

And just kept the nice one if I get the choice. 

I want to have only happy memories in my mind. I don't like anything sad, in my life and in my memories. Just the beautiful memories.

I have heard that whatever you pray to God, looking at the rising Sun, at the break of the very first ray, that wish is granted. 

Oh God, please select all sad, bad, painful and hurting memories from my past. I don’t want to have any of them in my mind. I don’t want to remember about places, people, incidents,situations or anything that is related to those unhappy experiences. 

Please God, Select All ( sad, bad, painful, hurting memories) and delete.

I sat there, watching the sky change colours, people passed by me. Swinging slowly, I was so relieved, so happy, after seeing that colourful sky, I felt my life is also full of colours. I am so happy.

It is 7:30am, I should go back and get ready for office. Today I have to take care of a new presentation submitted by the finance department.

From here my apartment looks good. 

I have walked for 5 mins, but I am not able to find the gate, which stays open till 7:30 am. No worries, I will check all the three gates. It’s taking time, but it’s good to walk.

Finally, I am at my apartment and it is just seven floors to my flat. 

Guard, why is this lift not working?

Mam, it’s under maintenance.

From when? I remember it was working fine.

No Mam, it is not working from past 5 days. Cable and some parts needs replacement. We circulated the notice Mam.

You didn’t get it to me.

See Mam, you have signed. You must have forgotten about it. Sorry for inconvenience.

Oh! It’s ok. I will take the stairs. It is anyhow healthy. 

I came inside my house. While combing I realised, non of my memories have any association to hurt. It Sounds strange, but I think my prayer is answered.

Select all delete.

There goes all the painfully unwanted memories. With that goes the learning. With that goes the awareness to avoid the same situations next time.

I am left with good experiences, were it is just love, happiness and joy of life.

Now my past is all set and clearly Happy on records.

But now as my present is full of mixed emotions, no past learning and unaware of how to deal with tricky situations, So I don’t know how to cope with setbacks.

I have no idea of how to get back to track, as I have no records of any such learning in my whole life. 
I have no memories or experience of my field of expertise. Finance. All those long hours of work, all those tricky cases, special tricks and tips, everything is erased, deleted.

Oh God! What have I done. I tried to edit my past and landed up spoiling my present. To made the past look Happy I unlearned lessons given by life. This unlearning is spoiling my present life.

No I don’t want it, no, I don’t want it this way. I don’t want things this way anymore. 


I am shouting my throat out but, God is not listening.  Please God. Please , I need my lessons. I need my life learnings. 

Alarm started to ring,

4:30am.

All sweaty, breathing fast I opened my eyes, and realised it was a dream. A dream that felt real, than the reality. 

And it came with a life lesson. I have to embrace all scars, all bad memories. And I have to learn a lesson from them. I should stay happy for, I graduated from them.

Always stay happy at heart. Smile at life, life will surely smile back to you.

Life is what it is. Take it will both arms open. It gives us joy, it gives us happiness. it gives us pain, hurt, anger etc.

What we can do is, accept everything. And have a constant belief in self.

When things get rough, remember, it’s the rubbing that brings out the shine.

We all face hard times. We all fall and fiail. So let’s have strength deep inside us, to compose ourselves and stand again.

Let’s spread love and happiness in the world.

And please, comment if you also want to remember only happy incidents in your like. Please comment if you have any suggestions.

Unauthorized use and/or duplication of this material without express and written permission from this site’s author and/or owner is strictly prohibited. Excerpts and links may be used, provided that full and clear credit is given to Roshni Shukla, happyheartforever.com with appropriate and specific direction to the original content.

Posted in Blog, stories

My Long Drive / वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ Good weather Drive

 जरा खिड़की खोल कर देखिए, बाहर मौसम कितना सुहावना है , ठंडी हवा चल रही है। आज आसमान में थोड़े बादल भी है। देखो ऊपर उस चिड़िया को, दोनो पंख फैलाए उड़ रही है। सब कुछ कितना सुंदर है। ये आसमान के बदलते रंग आंखो को कितना सुकून दे रहे हैं। चलो ड्राइव पर चले। आज तो मौसम ही लांग ड्राइव का है। वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive.
Photo by Tom Fisk on Pexels.com

My Long Drive / वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ Good weather Drive. जरा खिड़की खोल कर देखिए, बाहर कितना सुहावना मौसम है।

ठंडी हवा चल रही है। चलो long drive par चलते हैं।

My Long Drive

आज आसमान में थोड़े बादल भी हैं। देखो ऊपर उस चिड़िया को, दोनो पंख फैलाए मजे से उड़ रही है।

सब कुछ कितना सुंदर है।

ये आसमान के बदलते रंग आंखो को कितना सुकून दे रहे हैं।

चलो, आज ड्राइव पर चले। वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive.

क्या! यहां से खड़े खड़े देख लूं। क्यों? बाहर क्यों नहीं जाऊं। आज ही इस मौसम का मजा क्यों नहीं ले सकते?

माना कि आज व्यस्त हैं थोड़ा, पर ऑफिस का ही तो काम है, ऑफिस में कर लेंगे ना।

खाना ही तो बनाना है, रोज ही तो बनती हूं, जरा थोड़ी देर में बना लूंगी।

अरे, बाहर धूल है तो क्या हुआ? गाड़ी का एसी चला लेंगे।

ठीक है ये मौसम भी दुबारा आएगा कभी, पर बादलों में तो ये नहीं लिखा ना, की “आज जाना मना है”।

चलो ना, आज लांग ड्राइव पर चलते हैं। वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

ये मौसम बस मेरी खिड़की का नहीं है, ये मौसम पूरे शहर का है।

देखो, बाहर वो लाला की किराने की दुकान के सामने, जो लाल मारुति 800 खड़ी है।

ट्रैफिक लाइट के लाल होने के कारण।

उसमे जो महिला बैठी है, शायद कोई भजन सुन रही है। कितना शांत है उसका मन।

बहुत सारी फाइलें पड़ी है बगल की सीट पर, पर फिर भी अभी तो वो अपने में जी रही है।

शायद उसे वो भजन याद भी हैं थोड़े, देखो ना, होंठ हिल रहे हैं, गुनगुना रही होगी।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

वो जो सफ़ेद स्विफ्ट खड़ी है, अरे वो वाली नहीं, वो वाली जिसे को सफ़ेद कुर्ता पहिने सफेद दाढ़ी वाले कोई बुजुर्ग चला रहे हैं।

ध्यान से देखो कार की खिड़कियां चढ़ी हैं। उनको आस पास के लोग देख रहे हैं।

पर फिर भी उनका ध्यान किसी आवाज़ पर है, जैसे, कोई उन्हें कार में ही गुरु ज्ञान दे रहा हो। 

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive. जरा खिड़की खोल कर देखिए, बाहर कितना सुहावना मौसम है। ठंडी हवा चल रही है। आज आसमान में थोड़े बादल भी है।
Photo by Nate Cohen on Pexels.com

My Long Drive. जरा वो बाइक देखो, शायद वो दोनो लड़कियां स्कूल में पढ़ती हैं, घर जा रही होंगी।

दिन भर स्कूल के बाद दोनो थक गई है।

फिर भी सड़क पर, अपनी बाइक में, पीछे अपनी दोस्त को बैठाए उस लड़की की मुस्कान देखो।

ऐसा स्वतंत्र महसूस करती है वो इस गाड़ी में बैठकर। उसको फिर सारे दिन घर का नियम कानून मानना, हर  बात पे टोका जाना, तुम लड़की को, जरा संभल कर चलो, अंधेरा होने से पहले लौट आयो, कपड़े तो ऐसे ही पहनो ये सब ग्वारा होता है।

चलो ना ड्राइव पर चलें। आज तो दिन ही लांग ड्राइव का है।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive.

उस दुबले से लड़के को देखो, दुबला पतला, देखने में तो कोई मनमौजी लगता है।

अपनी ही धुन में, शायद उसे खेल कूद का भी शौक है। हेलमेट लगा हुआ है, तो चहरा नहीं दिख रहा।

पर जरा से झुके कंधों से लगता है, जिम्मेदारियां भी बहुत लिए घूम रहा है।

गाड़ी रोक पैरों को सड़क पर रख कर, जिस राहत से उसने अपनी शर्ट की कॉलर का बटन खोला है।

लगता है मौसम उसको भी अच्छा लगा है।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

उस बाइक को देखो ना एक माता पिता  बैठे हैं। जिस के एक हाथ में झोला है, बीच में एक बच्चा भी है।

माता पिता ने तो हेलमेट पहना है। मगर बच्चे के बाल जो हवा में उड़ कर मुंह पर आ रहे हैं, वो ही खेल बन गया है उसका।

और वो कार में बैठे पति पत्नी।

सिग्नल पर आते ही  पानी पीने बॉटल उठाई पति ने। शायद पानी है नहीं उसमे।

पत्नी ने धीरे से कार का कांच खोला।

हाथ बाहर निकाल कर शायद वो इस मौसम को अपनी मुट्ठी में भर कर अपने साथ ले जाना चाहती है।

पत्नी ने आदतन ही अपनी बॉटल निकाल कर दे दी उसे।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

हा हा हा, उस कुत्ते को तो देखो, अपने मालिक मालकिन के साथ कार में घूम रहा है।

कैसे खिड़की से बाहर मुंह निकले है। लगता है आज पूरी ठंडी हवा वो ही खा लेगा। लार टपका रहा है।

बगल से गुजर रहे बच्चों को देख कर खेलना चाहता है, पर कुछ बच्चे उससे डर रहे हैं, और कुछ उसको चिढ़ा रहे हैं।

मालकिन ने पीछे हाथ से चैन पकड़ रखी है, वरना तो वो आज खिड़की से कूदने को तैयार बैठा है।

उसकी इस हरकत से आगे बैठे दोनो कितना हंस रहे हैं। हर बार की कार यात्रा का ये ही खेल है।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

पान की दुकान के पास वाली उस बड़ी गाड़ी को देखो, guitar रखा है जिसमें पिछे।

उसमे शायद कोई संगीत प्रेमी बैठा है। पास रखी पानी की बॉटल का पानी भी बंद गाड़ी में हिल रहा है।

जरूर ज्यादा बेस में गाना चल रहा है अंदर।

गाड़ी रुकी है तो कांच में देख कर चहरे पर आ रहे बाल भी ठीक कर लिए हैं।

आजादी का ये पल तो उसे भी अच्छा लग रहा है।

चलें आज हम भी लॉन्ग ड्राइव पे। वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive.

My Long Drive. उस चमकती गाड़ी को देखो,

ऐसा लगता है, आज विशेष रूप से घंटों लगा कर साफ़ हुई है।

अंदर बैठा आदमी भी बड़ा तैयार सा बैठा है।

बार बार कांच में देख कर मुस्कुरा रहा है, अपने आप से ही बातें कर रहा है।

कुछ लोग जब खुश होते हैं, तो खुद से ही बातें करने लगते हैं। मौसम का रंग तो इस पर भी चढ़ा है।

उस गाड़ी को भी देखो, पूरी भरी है।

अंदर हंसी ठहाका हो रहा है, ये लोग भी शायद आज मौसम का स्वाद चखने घर से निकले हैं।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

और वो वाली गाड़ी देखो, अरे वाह! देखो, उसमे पीछे की सीट लेटा कर बच्चों का कमरा बन गया है।

माता पिता आगे बैठे हैं, और बच्चे पीछे आराम से खेल रहे हैं।

My Long Drive

देखो छोटे छोटे कुशन भी पड़े हैं। शायद बच्चे खेल कर यहीं सो भी जाएं।

और जरा सड़क के उस पार, उस इमारत को देखो।

वो देखो सबसे ज्यादा हरियाली वाली वो बालकनी। वो मुझे हमेशा ही अच्छी लगती है।

कभी कभी वहां चिड़िया, कुछ अच्छे दिये लटकते है। देखो गौतम बुद्ध की एक प्रतिमा भी रखी है वहां।

अक्सर वहां से एक लड़की मुझे देख कर मुस्कुराती है। उसे भी शायद प्रकृति को देखना खूब पसंद है।

अक्सर हमारी नजरें तब टकराती है जब मैं यूं अपनी खिड़की से बाहर झांकती हूं और वो अपनी चाय का कप लिए अपनी बालकनी पे होती है। आज भी देखो वो वहीं बैठी है, मौसम से हर्षाती हुई।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

ओह! बच्चों को खेलने भेजने का टाइम हो गया। आज तो उनको भी मज़ा आएगी, इस मौसम में उछल कूद करने में।

चलो गाड़ी में छोड़ आते हैं उन्हें। फिर एक राउंड वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव भी हो ही जाएगी। अरे, थोड़ी हिम्मत करो, चलो।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

फिर क्या था, बच्चों को खुशी खुशी कार में बैठकर और खिड़की खोल कर चल पड़ी हमारी गाड़ी।

रास्ते में बच्चों ने रिमोट से कई बार गाने बदले। मन किया बोलूं कोई एक गाना चलने दो, फिर लगा, उनकी भी तो लॉन्ग ड्राइव है। ग्राउंड आ गया, उन्हें उतार कर गेट तक पहुंचा दिया मैंने।

अब चलें लॉन्ग ड्राइव पर। हां, गाड़ी मै चलाऊंगी, खिड़की के कांच चढ़ा दिए। एसी दो पर सेट। मेरे मोबाइल की फेवरेट गानों वाली लिस्ट ही बजेगी आज।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

और ये हुई गाड़ी चालू। लंबी सड़क, महौल को सूट करते प्यारे गाने।

कार में मुझे जोर जोर से गाना पसंद है, किससे शर्म? उंगलियां अब स्टेयरिंग पर नाचने लगी, गर्दन भी लय मिलाने लगी, कंधे तो इतने खुश हैं कि ताल पर उछल रहे हैं।

बहुत खुश हूं। दिमाग भी इतना ताज़ा जैसे अभी ध्यान करके उठी हूं।

बस इस पल में हूं, पूरा जी रही हूं। कान से कान तक मुस्कुरा रही हूं। और इस गाड़ी में अकेले बस अपने लिए गा रही हूं।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive. जरा खिड़की खोल कर देखिए, बाहर कितना सुहावना मौसम है। ठंडी हवा चल रही है। आज आसमान में थोड़े बादल भी है।
Photo by Element5 Digital on Pexels.com

हां, आपने सही सुना, गाड़ी में मैं अपने लिए ही मुस्कुरा रही हूं।

मुझे खुद से बातें करना अच्छा लगता है।

ये मेरे पल हैं। सब के अलावा मुझे खुद के लिए भी तो खुश होना है।

ये यहीं नहीं रुकता, मुझे गाड़ी में अकेले मुस्कुराते और गाते देख कर शायद कोई राहगीर हंस पड़े।

पर उसे क्या पता मेरी इस लॉन्ग ड्राइव का जादू।

अगली बार आप भी चलिए मेरे साथ। मैंने कई बार अपनी खिड़की से बैठे बैठे आपको देखा है उसी सिग्नल पर।

यदि आपको भी लगता है कि मैं आपकी बात कर रही हूं तो मुझे अभी यहीं बताइए।

अगली बार आप उस सिग्नल पर आएं तो देखना, बायें हाथ तरफ के घरों में से एक घर की खिड़की से मैं आपको बाहर देखती मिल जाऊंगी।

Unauthorised use and/or duplication of this material without express and written permission from this site’s author and/or owner is strictly prohibited.

Excerpts and links may be used, provided that full and clear credit is given to Roshni Shukla, happyheartforever.com with appropriate and specific direction to the original content.

Posted in stories

Café Coffee Day, सबसे खास कॉफी / CCD, सबसे खास कॉफी

A lot can happen over coffee, go have one today.

Café Coffee Day, सबसे खास कॉफी। हमेशा की तरह कैफे कॉफी डे में भीड़ थी।

शाम का समय था। आर्य और नितिन बड़े दिनों बाद इस तरह समय निकालकर कॉफी पीने आए थे।

कांच के दरवाज़े के किनारे एक छोटी सी दो कुर्सियों वाली टेबल खाली थी। आर्या जाकर वहां बैठ गई, नितिन ने भी दूसरी कुर्सी ले ली।

मेज छोटी सी थी, बैठने पर घुटने टकरा रहे थे, पर इस बात का बूरा किसे लग रहा था।

वो थी Café Coffee Day, सबसे खास कॉफी

मेज इतनी छोटी तो थी की दो आंखो के बीच में कोई आ भी ना सके। इतनी भीड़ में भी बस दोनों को एक दूसरे की ही बातें सुनाई दे रही थी। जैसे, वहां कोई था ही नहीं। उनके पास बात करने, याद करने और हंसने के लिए बहुत कुछ था।

नितिन  ने पूछा क्या

ऑर्डर करूं,

आर्या बोली,

आज तू रहने दे, मैं ऑर्डर करती हूं।

आर्या काउंटर पर गई और अपना ऑर्डर किया,

“दो मुस्कुराती cappuccino”।

बातों का सिलसिला शुरू हो हुआ था, वो दोनो एक दूसरे में खो से गए थे।

आर्या ने देखा उनकी कॉफी लेकर काउंटर का ट्रेनी लड़का आ रहा है पर तभी जय ने उसका रास्ता रोका और कॉफी को वापस ले जाने को कहा।

जय सीसीडी में सबसे पुराने कर्मचारियों में से एक था। जय ने वह चेहरा पहचान लिया था।

उसने ट्रेनी से धीरे से कहा,

“यही है वो, मुस्कुराते cappuccino wali।”

एक पल के भीतर ट्रेनी समझ गया कि जय का क्या मतलब है। उसने कप वापस ले लिया, सुधार किया और मेज पर जाने के लिए तैयार था।

जय ने कहा, “कृपया उसे कुछ चीनी के लिए पूछें”। उसने सहमति में सिर हिलाया।

“मेम, शुगर लेंगे?”

आर्या ने मुस्कराते हुए उत्तर दिया,

“मैं ईश्वर की सबसे प्यारी बच्ची हूँ, अभी मेरी पसंदीदा जगह पर, टेबल पर सबसे प्यारे व्यक्ति के साथ बैठी हुं, मेरे साथ ज़िन्दगी मुस्कुरा रही है, मुझे चीनी की ज़रूरत नहीं है, बस आप मेरी मुस्कुराती कॉफी मुझे दे दीजिए।

आर्या और नितिन अपनी मुस्कुराती काफी लेकर, फिर अपनी बातों में खो गए। Café Coffee Day, सबसे खास कॉफी

कॉफी भी अपना असर दिखने लगी। बातें धीरे धीरे अपना मिजाज बदल रही थीं।

सीसीडी में भरी कॉफी की खुशबू भी उन पर असर करने लगी थी।

नितिन में धीरे से अपनी कुर्सी और करीब कर ली।

अब तो दोनो पैर भी टकरा रहे थे। अब पैर भी एक दूसरे से बातें कर रहे थे।

आर्या की नजर उस दीवार पर पड़ी जहां सही ही लिखा था, “कॉफी के साथ बहुत कुछ हो सकता है”।

A lot can happen over coffee’, Café Coffee Day

ट्रेनी उन्हें उस दिन कई बार देखता रहा।   जब उससे रहा नहीं गया। उसने जय से पूछा

“उसने तुम्हे क्या बताया?”।

जय ने जवाब दिया

“बस ज़िन्दगी में हर छोटी खुशी में मुस्कुराइए, फिर ज़िन्दगी भी तुम्हारे साथ मुस्कुराएगी।”

हम नहीं जानते, आर्या और नितिन के बीच क्या कठिनायां हैं।

पर दोनो, एक दूसरे के साथ हमेशा मुस्कुराते हैं।

बस याद रखें, हम सभी किसी के खास हैं, तो चलिए मुस्कुराते हैं। जीवन निश्चित रूप से मुस्कुराएगा।

यदि आप इस विचार से सहमत हैं तो लाइक, शेयर, कमेंट करें। Café Coffee Day, सबसे खास कॉफी

Unauthorized use and/or duplication of this material without express and written permission from this site’s author and/or owner is strictly prohibited.

Excerpts and links may be used, provided that full and clear credit is given to Roshni Shukla, happyheartforever.com with appropriate and specific direction to the original content.

Posted in Food, Happy parenting

क्या होगा अगर मेरा बच्चा खाना* नहीं चाहता है?

क्या होगा अगर मेरा बच्चा खाना* खाना नहीं चाहता है? कई बार बच्चे खाना* नहीं खाना चाहते। वह अब सुस्त और गुमसुम सा रहता है। ज्यादा देर खेलता भी नहीं। पूरे दिन चिड़चिड़े से रहते है। शाम को खेलने या पड़ने में मन नहीं लगता। इस तरह की समस्या के समाधान दो आसान उपाय हो सकते हैं।

अनिल एक बहुत चंचल बच्चा है, क्लास में भी हर गतिविधि में बाकी बच्चों कि ही तरह भाग लेता रहा है। घर में भी उसे देख कर किसी को खास चिंता नहीं होती थी। मगर पिछले तीन चार महीनों से उसकी ये आदतें बदल सी गई है। वह अब सुस्त और गुमसुम सा रहता है। ज्यादा देर खेलता भी नहीं। पूरे दिन चिडचिड़ा सा रहता है। अब शाम को खेलने या पड़ने में भी उसका मन नहीं लगता। अनिल के घर वाले ये सब महसूस कर रहे हैं। 

क्या होगा अगर मेरा बच्चा खाना* खाना नहीं चाहता है? वह अब सुस्त और गुमसुम सा रहता है। इस तरह की समस्या के समाधान दो आसान उपाय हो सकते हैं।

क्या होगा अगर बच्चा खाना* नहीं खाना चाहते?

अब इस तरह की समस्या के समाधान दो आसान उपाय हो सकते हैं। 

1. यह निश्चित करना की बच्चा बीमार नहीं है या पेट में कीड़े नहीं है, आप डॉक्टर से परामर्श  करें।

2. क्या बच्चे की दिनचर्या में ऐसा कोई बदलाव आया है, जिसके कारण वो ऐसा कर रहा है। 

पहली स्थिति में तो डॉक्टर के दिए दिशा निर्देशों का पालन करें। दूसरी स्थिति में बहुत से कारण हो सकते हैं।

जिनमे से सबसे आसानी के सुधार पाने वाला कारण भोजन  से सम्बन्धित हो सकता है।

यदि हाल ही में आपके बच्चे की खुराक में बदलाव आया है तो

यह भी व्यवहार में बदलाव का कारण हो सकता है। 

बच्चे की बदलती खुराक के कई कारण हो सकते हैं:

  • उनका मूड – वह थका हुआ, परेशान या उत्तेजित महसूस करेगा तो उनकी खुराक में बदलाव होगा। 
  •   उनकी सेहत : बच्चों की सेहत ठीक नहीं होने पर भी उनकी खुराक कम हो जाती है। ऐसे में जब बच्चे ठीक हो जाते हैं, तो वापस खुराक में सुधार आने लगता है। 
  • दिन का समय: यदि हर दिन भोजन करने के समय में बदलाव आता है, तो खुराक भी अलग हो सकती है। 
  • भोजन के प्रकार की पेशकश: परोसे गए भोजन का भी खुराक पर असर होता है। यदि बच्चे ने नाश्ता बहुत सारा या गरिष्ट किया है तो भी उस भूख कम लगेगी। भोजन बच्चे की पसंद का है या नहीं यह भी खुराक में बदलाव लाता है।
  • वे कितने सक्रिय हैं। यदि बच्चा सामान्य रूप से खेलता है या दिन में ज्यादा समय बैठ कर बीतता है तो दोनो स्थिति में उसकी खुराक में अंतर होगा।

  • यदि आपका बच्चा कभी-कभी भोजन नहीं करता या बहुत कम खाता है तो यह ठीक है।
  • एक बार का भोजन या स्नैक  छूट जाने से बच्चे के स्वास्थ को नुकसान नहीं पहुंचता। “नहीं” कहना आपके बच्चे की पसंद या आज़ादी का तरीका भी है।
  • यदि आपका बच्चा खाने के लिए नहीं बैठ सकता है, तो भोजन या नाश्ते से पहले कुछ समय उस शांत वातावरण दें।
  • भोजन के समय को शांत रखें और टीवी, सेल फोन, टैबलेट और कंप्यूटर बंद कर दें।
  • खाने के लिए पुरस्कार के रूप में मिठाई या पसंदीदा भोजन का उपयोग करना आवश्यक नहीं है।
  • यदि आपका बच्चा भोजन पसंद नहीं करता है, या खाना नहीं चाहता है, तो भोजन को हटा दें और 1 से 2 घंटे बाद एक स्वस्थ नाश्ता पेश करें।

इस तरह उस धीरे से ये समझ में आएगा कि खाना हर समय उपलब्ध नहीं होगा।

उस जब भोजन परोसा गया है, तब नहीं खाने पर, फिर उसे अगले कुछ घंटे कुछ नहीं मिलेगा।

इस तरह उसकी आदत पड़ जाएगी।

शुरू में ऐसा करना थोड़ा कठिन होगा या अच्छा नहीं लगेगा,

मगर, एक दो हफ्ते में बच्चे की खुराक और आदतों में बदलाव जरूर आयेगा।

मां के दिमाग में आने वाले कुछ और सवाल – 

अपने और बच्चे के  जीवन को आसान करने के लिए आप सभी को शुभकामनाएं

Happy childhood is every child’s right.

All the best wishes to you on this amazing journey. This will surely give us easy life.

If these tips help you in finding your answer, please comment. You can also comment, if you are having any other questions related to parenting. 


Posted in Food, Happy parenting

खाना? मुझे अपने बच्चे को कब खाना परोसना चाहिए?

खाना? मुझे अपने बच्चे को कब खाना परोसना चाहिए?

खाना? मुझे अपने बच्चे को कब खाना परोसना चाहिए?बच्चों को खाना खिलाना, मां का दिन भर का सबसे बड़ा काम हो सकता है, और सबसे ज्यादा समय लेने वाला भी। इसी बीच जब बच्चे की थाली परोस दी गई है, पर वह नहीं खाता तो, मां, दिन भर उसके खाने की चिंता करती रहती है। ऐसे में एक प्रश्न जो मां के दिमाग में आता है –

मुझे अपने बच्चे को कब खाना परोसना चाहिए?

अक्सर इस प्रश्न के कई तरह के उत्तर मिलते हैं, जो, आस पास के लोग या घर के बड़ों के हम तक पहुंचते हैं।

अक्सर हम पूरे समय बच्चे के पीछे खाना लेकर घूमते रहते हैं। और कई बार हम बच्चे को जबरदस्ती खिलते है।

मुझे अपने बच्चे को कब खाना परोसना चाहिए?

अब आप ये तरीके भी अपनाकर देखें।

  • पूरे दिन खाने के लिए पीछे भागने के बदले, अपने बच्चे को दिन में 3 बार नाश्ता और 2 बार पूरा भोजन दें। 
  • हर दिन लगभग एक ही समय पर भोजन और नाश्ता परोसने का प्रयास करें। 
  • भोजन और नाश्ते का एक योजना बद्ध अनुकरण आपके बच्चे में खाने की आदतों को विकसित करने में मदद कर सकती है।
  • आपके बच्चे को आपके मुकाबले खाने में अधिक समय लग सकता है।
  •  उन्हें खाने को खत्म करने का समय दें। 
  • यदि आपको लगता है कि बच्चे का खाने में मन नहीं लग रहा और वो खाने से खेल कर रहा है, तो उसके सामने के खाना हटा दें, और उसको मेज से उतर कर खेलने छोड़ दें। 
  • इस तरह धीरे से बच्चा ये समझ जाएगा कि खेलना और खाना एक साथ नहीं हो सकता।
  • यदि बच्चे को कोई स्वस्थ से सम्बन्धित दिक्कत नहीं है, और वह रोज खेल कूद कर रहा है तो निश्चित रहें।
  •  बच्चे कभी भी भूखे नहीं रहते, वो अपनी आवशयकताओं के अनुसार खा लेते हैं।
  • बच्चे को दिन भर ना खिलाएं, इससे उन्हें भूख का अहसास नहीं होता।

Happy childhood is every child’s right.

All the best wishes to you on this amazing journey. This will surely give us easy life.

If these tips help you in finding your answer, please comment. You can also comment, if you are having any other questions related to parenting. 

Posted in stories

Now lizards make her smile / now lizards make her blush

Now lizards make her smile. This is story of a queen who was affraid of lizards. She was affraid to such an extent that she would never go to a room if she finds about any lizard ln that room.

Now lizards make her smile.

Her friends asked her this valentine's day, " Dear, what is the most romantic date you had with your husband?"

Queen was affraid of lizards to the extent that she never entered the room, if she knew there was one in the room, she still is.

She still is affraid of lizards.

But now she smiles when she finds a lizard in room.

Her friends asked her this valentine’s day,

” Dear, what is the most romantic date you had with your husband?”

She thought for some time, as she never went to a date. She had no answer. Actually had nothing to say related to this.

She was searching for some answer in her head.

There was love between King and Queen. They never expressed it with gifts and roses. They shared a unique bond. Their love needed no show. They always smile at each other

She smiled and replied with twinkling eyes

” He takes care of every lizard issue at home. That’s my date, every day.”

Wishing happiness for the world.

I am affraid of lizards. Some of my friends are affraid rabbits. Some are affraid of honeybees. And some of frogs. We don’t like to be around these beings, because we are not comfortable with there presence. If you are too, comment below and tell how you react when you see one. If you are affraid of some other creepy crawly, please comment and tell us what it is and share how you react on seeing it.

Please give your opinion on: Is going to a date, having fancy dinners, visiting different romantic destinations, the only way to know your partner loves you? Or do you believe there can be some sweet nothings that can be counted to know that life is smiling back to us.

You can also read this story in 100 words format, here
“Now lizards make her smile” by Happy Heart.
Read Here: https://www.momspresso.com/parenting/light-silver-line-of-hope/story/now-lizards-make-her-smile

Unauthorized use and/or duplication of this material without express and written permission from this site’s author and/or owner is strictly prohibited. Excerpts and links may be used, provided that full and clear credit is given to Roshni Shukla, happyheartforever.com with appropriate and specific direction to the original content.

Posted in Go Green, Schooling

T-shirt bags, stop polythene bags, Go Green

T-shirt bags, stop polythene bags, Go Green, Save Earth. These are some of the concepts all of us hear now a days.

Say no to plastic bags save Earth

All of us think we will follow it now. Some of us try to follow it for a while, get appreciated by friends and family. But it fades away with time. Few of us take this concept and make it our habit. Being grown up it takes a little longer and special effort to convert this into a habit.

Recycled t-shirt bag,  stop polythene bags, Go Green, Save Earth

We at our school shared this Recycled T-shirt bags, reusable bags, stop polythene bags, Go Green, Save Earth activity with students of Kindergarten and primary classes.

After doing this for years, I find, effort was worth. 

Recycled t-shirt bag,  stop polythene bags, Go Green, Save Earth

Recycled T-shirt bags: I have seen this work in many sites, and it really wanted to try it. So, for the first time in 2012, I tried this as a project for my son. It was to engage a four year old into some productive play, while stabilising hand eye coordination and developing motor skills. 

He was so happy to use these new T-shirt bags, with so many cartoon characters printed on it. And he used it to carry his toys for one room to another.

These were the 5 most interesting ways of making reusable bags in 2012.

And then after seeing how T-shirt bags developed a positive habit to my son. I tried the same with students of my class. And then it became an annual activity.


Recycled t-shirt bag,  stop polythene bags, Go Green, Save Earth

But year after year when we Google and found out more ideas to follow for T-shirt bags. The best 7 ideas that we found in 2019 are listed here for you:

Recycled t-shirt bag,  stop polythene bags, Go Green, Save Earth

The concept that we are trying to give to our children might not be making a bag every time they see an old t- shirt.

But for me it was firstly to keep them engaged, secondly to make them learn something new and then most importantly to teach them how much joy they get by making something.

And the cherry on top were the teaching I could indirectly give to him about environment, why we should avoid plastic bags, what will be our contribution to saving Earth etc.

Present status, all the bags that we have are reusable and eco friendly.

Wishing happiness to the whole world.

Go Green. I am doing my bit.  There are many incidents, when my family or friends went shopping with me, and there is always a handy cloth bag that pops out of my purse or pocket. I always say no to polythene. But, how to help others do the same. I used my profession, teaching,as my opportunity. Every year, my students make a bag using their old t-shirt. Students enjoy doing this all by themselves. They are encouraged and appreciated on using these bags. It has become our annual activity. Make your own t-shirt bags

Save Earth, Bag your opportunity.

Please comment if you have more things that children can do at home to stay engaged and learn something important at the same time.

Check out this interesting short story
“Bag your opportunity” by Happy Heart.
Read Here: https://www.momspresso.com/parenting/light-silver-line-of-hope/story/bag-your-opportunity

Unauthorized use and/or duplication of this material without express and written permission from this site’s author and/or owner is strictly prohibited. Excerpts and links may be used, provided that full and clear credit is given to Roshni Shukla, happyheartforever.com with appropriate and specific direction to the original content.

Posted in Food, Happy parenting

How much food my child needs? Appetite of your child

Photo by Tiago Pereira on Pexels.com

How much food my child needs?

How much food my child needs? This is one more question that arises in parent’s mind everyday when they server them any of the meals. How much food my child needs?This question also pops up when people enquire and compare their child with other children.

How much food my child needs?

Healthy eating habits and stress free childhood is an indicator of healthy parenting, in the world of parenting.

The appetite of young children can change from one day to the next. 

Parent’s mindsets while serving food to their child:

 As parents or caregivers, you decide:

  • What kind of food we serve to our child. : As mother it becomes tough to choose between the healthy food that we want to serve to our children and whatever he eats.
  • What time of day are we serving food. As mothers, we just always look for a chance to feed our children. Feeding children is a full time project for any mother.
  • the place where the food will be served: that is a trick point. For most of the mothers, it is wherever child sits to eat. But honestly, especially in toddlers case, they never sit in one place, long enough to finish their meal.

Your child decides:

  • among all the food that is served, which ones are worth eating. And which are not appealing and can be rejected by showing tantrums.
  • how much should I eat: they also decide how hungry they are and what amount of food is ok for them.

How much food my child needs?

We will get the answer by trying the following ways which will make you happy parents.

  • Start feeding your child in small amounts and let them re-ask if needed. Your child will respond according to his need.
  • Occasionally, your child will starve and eat a lot. So, give him the second serving. This way he will not see full plate at a time.
  • He  will eat less when not much Hungry. This is normal. If your child is not hungry, do not pressurize or bribe him to eat or to finish the meal.
  • Do not serve many munching in between, that reduces his craving for food at the time of meal.
  • If your child is active and happy then there is nothing to worry about. A starving child will not be active and happy throughout the day.
  • During the meal time if your child denied eating, please take away the food. Do not ask or pressurized him for eating for another 1-2hours. He will surely eat the next time you offer him.
  • Timely eating will also help in knowing the answer to your question.
  • If you still have any questions about your child’s development or hunger, talk to your doctor.

Happy childhood is every child’s right.

All the best wishes to you on this amazing journey. This will surely give us easy life.

If these tips help you in finding your answer, please comment. You can also comment, if you are having any other questions related to parenting. 

Posted in Food, Happy childhood, Happy parenting

We can teach our children to eat and enjoy food.

As parents, we can teach our children to eat and enjoy food. It will make our lives easier. These ways will be helpful to every mother, in building healthy eating habit.

Eat properly. Mothers say this most of the times.

What can I do to help my child eat well? There is a question that always pops in my mind and to every parent at some point of time. How will my child eat well.

There is no fixed answer to this question, but there is a list of ways, that can surely help in solving this problem.

Photo by Igor Starkov on Pexels.com
  • Sit and eat with your child and serve every thing in small portions, that you have served in your plate.
  • Show your child what eating healthy is like. You are your child’s best role model. They will learn to eat and explore new foods by watching what you do.
  • Offer new foods many times. They often need to see, smell and touch a food many times before tasting it.
  • Your child may need to taste a food many times before they eat it. So,Continue to offer new foods and include foods your child has refused in the past.
  • Give your child enough time to eat.
  • Young children learn by touching, smelling and looking at foods.
  • Give your child time to learn about the foods you offer. Learning to use a spoon and fork also takes time.
  • Plan time to sit and eat slowly with your child.
  • Making Mess at home is also part of learning.
  • Try offering the same food in different ways.
  • Be patient and keep giving your child foods made in different ways: raw, cooked (steamed, roasted), in stews, soups and sauces.
  • If your child likes vegetables cooked a certain way, give them other vegetables made that same way.
  • Offer new foods with foods your child already likes.
  • Offer new foods often and serve them with food that your child likes.
  • If your child doesn’t want to eat or eats very little for a meal, offer a healthy snack 1 to 2 hours later.
  • Making a different meal for your child will not help them become a healthy eater.
  • Sometimes young children only want to eat the same foods over and over again. It is normal and may last for a few weeks or months.
  • If the “favourite” food is healthy then continue to offer it along with a variety of other healthy foods.
  • If the “favourite” food is a less healthy option,then give it to your child less often.

As parents, we can teach them to enjoy food and it will make our lives easy.

Wishing you happy parenting, that leads to happier you.

Please find other useful links related to stabilising healthy eating habit in children, which leads to healthy and happy childhood.