Posted in stories

Deleting everything sad from Life, Happy Heart Forever.

Life, Nothing Sad. Deleting everything sad from Life – Happy Heart Forever. I am sitting on a swing. A swing that I always see from my window. But, I never thought I would ever get a chance to come here and sit. Today I am here right now. And the only thought that is repeatedly coming to my mind is about all the experiences of my life that were hurting.

life is a mix of many emotions happiness, sadness, disgust, fear, surprise, and anger, pride, shame, embarrassment, excitement and many more.

 I understand that Life is a mixed experience of  emotions and it starts from the very first day. The day we are born. We cry to fulfill our needs, we learn. If we like or are pleased with something, we smile, we laugh. We learn to crawl, walk. After falling several times while trying, we learn. We understood that we do not want to walk in rough surface, because it hurts, we learn this and we grow. We learn and we grow.

When we try to recollect, some events we remember, some we don’t. We know that if we touch hot oil, we will get burnt. We know if we touch a live wire, we will get shock. Some learning we get by achievements, some by failures. But we learn. And surprisingly, at later stages of life, we don’t remember the reason for the learning in most of the cases.

I also know that life is a mix of many emotions happiness, sadness, disgust, fear, surprise, and anger, pride, shame, embarrassment, excitement and many more.

I know this all. This is what I have heard. This is what all of us have heard. Time and again. It’s life. These emotions are different colours of this life, and whatnot. 

If someone asks you to recall event for your life related to each section. Can you?

When  I asked this question to myself, I could not answer. Ok, some credit surely goes to memory. But still. 

What I remembered, were the incidents when I was hurt. But surprisingly, not by things , but by the people. And again today while recalling it hurts. What I remembered, were some good times I spent with people around. Every memory brings back some emotions.

But, what I noticed, was that, all the good memories stayed for little and the emotional baggage of hurt and pain stayed for a comparatively longer time.

What if we find an option of select all and delete?

I would have deleted all the memories associated with pain, hurt, agony and all similar kind.

And just kept the nice one if I get the choice. 

I want to have only happy memories in my mind. I don't like anything sad, in my life and in my memories. Just the beautiful memories.

I have heard that whatever you pray to God, looking at the rising Sun, at the break of the very first ray, that wish is granted. 

Oh God, please select all sad, bad, painful and hurting memories from my past. I don’t want to have any of them in my mind. I don’t want to remember about places, people, incidents,situations or anything that is related to those unhappy experiences. 

Please God, Select All ( sad, bad, painful, hurting memories) and delete.

I sat there, watching the sky change colours, people passed by me. Swinging slowly, I was so relieved, so happy, after seeing that colourful sky, I felt my life is also full of colours. I am so happy.

It is 7:30am, I should go back and get ready for office. Today I have to take care of a new presentation submitted by the finance department.

From here my apartment looks good. 

I have walked for 5 mins, but I am not able to find the gate, which stays open till 7:30 am. No worries, I will check all the three gates. It’s taking time, but it’s good to walk.

Finally, I am at my apartment and it is just seven floors to my flat. 

Guard, why is this lift not working?

Mam, it’s under maintenance.

From when? I remember it was working fine.

No Mam, it is not working from past 5 days. Cable and some parts needs replacement. We circulated the notice Mam.

You didn’t get it to me.

See Mam, you have signed. You must have forgotten about it. Sorry for inconvenience.

Oh! It’s ok. I will take the stairs. It is anyhow healthy. 

I came inside my house. While combing I realised, non of my memories have any association to hurt. It Sounds strange, but I think my prayer is answered.

Select all delete.

There goes all the painfully unwanted memories. With that goes the learning. With that goes the awareness to avoid the same situations next time.

I am left with good experiences, were it is just love, happiness and joy of life.

Now my past is all set and clearly Happy on records.

But now as my present is full of mixed emotions, no past learning and unaware of how to deal with tricky situations, So I don’t know how to cope with setbacks.

I have no idea of how to get back to track, as I have no records of any such learning in my whole life. 
I have no memories or experience of my field of expertise. Finance. All those long hours of work, all those tricky cases, special tricks and tips, everything is erased, deleted.

Oh God! What have I done. I tried to edit my past and landed up spoiling my present. To made the past look Happy I unlearned lessons given by life. This unlearning is spoiling my present life.

No I don’t want it, no, I don’t want it this way. I don’t want things this way anymore. 


I am shouting my throat out but, God is not listening.  Please God. Please , I need my lessons. I need my life learnings. 

Alarm started to ring,

4:30am.

All sweaty, breathing fast I opened my eyes, and realised it was a dream. A dream that felt real, than the reality. 

And it came with a life lesson. I have to embrace all scars, all bad memories. And I have to learn a lesson from them. I should stay happy for, I graduated from them.

Always stay happy at heart. Smile at life, life will surely smile back to you.

Life is what it is. Take it will both arms open. It gives us joy, it gives us happiness. it gives us pain, hurt, anger etc.

What we can do is, accept everything. And have a constant belief in self.

When things get rough, remember, it’s the rubbing that brings out the shine.

We all face hard times. We all fall and fiail. So let’s have strength deep inside us, to compose ourselves and stand again.

Let’s spread love and happiness in the world.

And please, comment if you also want to remember only happy incidents in your like. Please comment if you have any suggestions.

Unauthorized use and/or duplication of this material without express and written permission from this site’s author and/or owner is strictly prohibited. Excerpts and links may be used, provided that full and clear credit is given to Roshni Shukla, happyheartforever.com with appropriate and specific direction to the original content.

Posted in Blog, stories

My Long Drive / वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ Good weather Drive

 जरा खिड़की खोल कर देखिए, बाहर मौसम कितना सुहावना है , ठंडी हवा चल रही है। आज आसमान में थोड़े बादल भी है। देखो ऊपर उस चिड़िया को, दोनो पंख फैलाए उड़ रही है। सब कुछ कितना सुंदर है। ये आसमान के बदलते रंग आंखो को कितना सुकून दे रहे हैं। चलो ड्राइव पर चले। आज तो मौसम ही लांग ड्राइव का है। वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive.
Photo by Tom Fisk on Pexels.com

My Long Drive / वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ Good weather Drive. जरा खिड़की खोल कर देखिए, बाहर कितना सुहावना मौसम है।

ठंडी हवा चल रही है। चलो long drive par चलते हैं।

My Long Drive

आज आसमान में थोड़े बादल भी हैं। देखो ऊपर उस चिड़िया को, दोनो पंख फैलाए मजे से उड़ रही है।

सब कुछ कितना सुंदर है।

ये आसमान के बदलते रंग आंखो को कितना सुकून दे रहे हैं।

चलो, आज ड्राइव पर चले। वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive.

क्या! यहां से खड़े खड़े देख लूं। क्यों? बाहर क्यों नहीं जाऊं। आज ही इस मौसम का मजा क्यों नहीं ले सकते?

माना कि आज व्यस्त हैं थोड़ा, पर ऑफिस का ही तो काम है, ऑफिस में कर लेंगे ना।

खाना ही तो बनाना है, रोज ही तो बनती हूं, जरा थोड़ी देर में बना लूंगी।

अरे, बाहर धूल है तो क्या हुआ? गाड़ी का एसी चला लेंगे।

ठीक है ये मौसम भी दुबारा आएगा कभी, पर बादलों में तो ये नहीं लिखा ना, की “आज जाना मना है”।

चलो ना, आज लांग ड्राइव पर चलते हैं। वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

ये मौसम बस मेरी खिड़की का नहीं है, ये मौसम पूरे शहर का है।

देखो, बाहर वो लाला की किराने की दुकान के सामने, जो लाल मारुति 800 खड़ी है।

ट्रैफिक लाइट के लाल होने के कारण।

उसमे जो महिला बैठी है, शायद कोई भजन सुन रही है। कितना शांत है उसका मन।

बहुत सारी फाइलें पड़ी है बगल की सीट पर, पर फिर भी अभी तो वो अपने में जी रही है।

शायद उसे वो भजन याद भी हैं थोड़े, देखो ना, होंठ हिल रहे हैं, गुनगुना रही होगी।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

वो जो सफ़ेद स्विफ्ट खड़ी है, अरे वो वाली नहीं, वो वाली जिसे को सफ़ेद कुर्ता पहिने सफेद दाढ़ी वाले कोई बुजुर्ग चला रहे हैं।

ध्यान से देखो कार की खिड़कियां चढ़ी हैं। उनको आस पास के लोग देख रहे हैं।

पर फिर भी उनका ध्यान किसी आवाज़ पर है, जैसे, कोई उन्हें कार में ही गुरु ज्ञान दे रहा हो। 

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive. जरा खिड़की खोल कर देखिए, बाहर कितना सुहावना मौसम है। ठंडी हवा चल रही है। आज आसमान में थोड़े बादल भी है।
Photo by Nate Cohen on Pexels.com

My Long Drive. जरा वो बाइक देखो, शायद वो दोनो लड़कियां स्कूल में पढ़ती हैं, घर जा रही होंगी।

दिन भर स्कूल के बाद दोनो थक गई है।

फिर भी सड़क पर, अपनी बाइक में, पीछे अपनी दोस्त को बैठाए उस लड़की की मुस्कान देखो।

ऐसा स्वतंत्र महसूस करती है वो इस गाड़ी में बैठकर। उसको फिर सारे दिन घर का नियम कानून मानना, हर  बात पे टोका जाना, तुम लड़की को, जरा संभल कर चलो, अंधेरा होने से पहले लौट आयो, कपड़े तो ऐसे ही पहनो ये सब ग्वारा होता है।

चलो ना ड्राइव पर चलें। आज तो दिन ही लांग ड्राइव का है।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive.

उस दुबले से लड़के को देखो, दुबला पतला, देखने में तो कोई मनमौजी लगता है।

अपनी ही धुन में, शायद उसे खेल कूद का भी शौक है। हेलमेट लगा हुआ है, तो चहरा नहीं दिख रहा।

पर जरा से झुके कंधों से लगता है, जिम्मेदारियां भी बहुत लिए घूम रहा है।

गाड़ी रोक पैरों को सड़क पर रख कर, जिस राहत से उसने अपनी शर्ट की कॉलर का बटन खोला है।

लगता है मौसम उसको भी अच्छा लगा है।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

उस बाइक को देखो ना एक माता पिता  बैठे हैं। जिस के एक हाथ में झोला है, बीच में एक बच्चा भी है।

माता पिता ने तो हेलमेट पहना है। मगर बच्चे के बाल जो हवा में उड़ कर मुंह पर आ रहे हैं, वो ही खेल बन गया है उसका।

और वो कार में बैठे पति पत्नी।

सिग्नल पर आते ही  पानी पीने बॉटल उठाई पति ने। शायद पानी है नहीं उसमे।

पत्नी ने धीरे से कार का कांच खोला।

हाथ बाहर निकाल कर शायद वो इस मौसम को अपनी मुट्ठी में भर कर अपने साथ ले जाना चाहती है।

पत्नी ने आदतन ही अपनी बॉटल निकाल कर दे दी उसे।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

हा हा हा, उस कुत्ते को तो देखो, अपने मालिक मालकिन के साथ कार में घूम रहा है।

कैसे खिड़की से बाहर मुंह निकले है। लगता है आज पूरी ठंडी हवा वो ही खा लेगा। लार टपका रहा है।

बगल से गुजर रहे बच्चों को देख कर खेलना चाहता है, पर कुछ बच्चे उससे डर रहे हैं, और कुछ उसको चिढ़ा रहे हैं।

मालकिन ने पीछे हाथ से चैन पकड़ रखी है, वरना तो वो आज खिड़की से कूदने को तैयार बैठा है।

उसकी इस हरकत से आगे बैठे दोनो कितना हंस रहे हैं। हर बार की कार यात्रा का ये ही खेल है।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

पान की दुकान के पास वाली उस बड़ी गाड़ी को देखो, guitar रखा है जिसमें पिछे।

उसमे शायद कोई संगीत प्रेमी बैठा है। पास रखी पानी की बॉटल का पानी भी बंद गाड़ी में हिल रहा है।

जरूर ज्यादा बेस में गाना चल रहा है अंदर।

गाड़ी रुकी है तो कांच में देख कर चहरे पर आ रहे बाल भी ठीक कर लिए हैं।

आजादी का ये पल तो उसे भी अच्छा लग रहा है।

चलें आज हम भी लॉन्ग ड्राइव पे। वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive.

My Long Drive. उस चमकती गाड़ी को देखो,

ऐसा लगता है, आज विशेष रूप से घंटों लगा कर साफ़ हुई है।

अंदर बैठा आदमी भी बड़ा तैयार सा बैठा है।

बार बार कांच में देख कर मुस्कुरा रहा है, अपने आप से ही बातें कर रहा है।

कुछ लोग जब खुश होते हैं, तो खुद से ही बातें करने लगते हैं। मौसम का रंग तो इस पर भी चढ़ा है।

उस गाड़ी को भी देखो, पूरी भरी है।

अंदर हंसी ठहाका हो रहा है, ये लोग भी शायद आज मौसम का स्वाद चखने घर से निकले हैं।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

और वो वाली गाड़ी देखो, अरे वाह! देखो, उसमे पीछे की सीट लेटा कर बच्चों का कमरा बन गया है।

माता पिता आगे बैठे हैं, और बच्चे पीछे आराम से खेल रहे हैं।

My Long Drive

देखो छोटे छोटे कुशन भी पड़े हैं। शायद बच्चे खेल कर यहीं सो भी जाएं।

और जरा सड़क के उस पार, उस इमारत को देखो।

वो देखो सबसे ज्यादा हरियाली वाली वो बालकनी। वो मुझे हमेशा ही अच्छी लगती है।

कभी कभी वहां चिड़िया, कुछ अच्छे दिये लटकते है। देखो गौतम बुद्ध की एक प्रतिमा भी रखी है वहां।

अक्सर वहां से एक लड़की मुझे देख कर मुस्कुराती है। उसे भी शायद प्रकृति को देखना खूब पसंद है।

अक्सर हमारी नजरें तब टकराती है जब मैं यूं अपनी खिड़की से बाहर झांकती हूं और वो अपनी चाय का कप लिए अपनी बालकनी पे होती है। आज भी देखो वो वहीं बैठी है, मौसम से हर्षाती हुई।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

ओह! बच्चों को खेलने भेजने का टाइम हो गया। आज तो उनको भी मज़ा आएगी, इस मौसम में उछल कूद करने में।

चलो गाड़ी में छोड़ आते हैं उन्हें। फिर एक राउंड वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव भी हो ही जाएगी। अरे, थोड़ी हिम्मत करो, चलो।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

फिर क्या था, बच्चों को खुशी खुशी कार में बैठकर और खिड़की खोल कर चल पड़ी हमारी गाड़ी।

रास्ते में बच्चों ने रिमोट से कई बार गाने बदले। मन किया बोलूं कोई एक गाना चलने दो, फिर लगा, उनकी भी तो लॉन्ग ड्राइव है। ग्राउंड आ गया, उन्हें उतार कर गेट तक पहुंचा दिया मैंने।

अब चलें लॉन्ग ड्राइव पर। हां, गाड़ी मै चलाऊंगी, खिड़की के कांच चढ़ा दिए। एसी दो पर सेट। मेरे मोबाइल की फेवरेट गानों वाली लिस्ट ही बजेगी आज।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive

और ये हुई गाड़ी चालू। लंबी सड़क, महौल को सूट करते प्यारे गाने।

कार में मुझे जोर जोर से गाना पसंद है, किससे शर्म? उंगलियां अब स्टेयरिंग पर नाचने लगी, गर्दन भी लय मिलाने लगी, कंधे तो इतने खुश हैं कि ताल पर उछल रहे हैं।

बहुत खुश हूं। दिमाग भी इतना ताज़ा जैसे अभी ध्यान करके उठी हूं।

बस इस पल में हूं, पूरा जी रही हूं। कान से कान तक मुस्कुरा रही हूं। और इस गाड़ी में अकेले बस अपने लिए गा रही हूं।

वो मेरी वाली लॉन्ग ड्राइव/ My Long Drive. जरा खिड़की खोल कर देखिए, बाहर कितना सुहावना मौसम है। ठंडी हवा चल रही है। आज आसमान में थोड़े बादल भी है।
Photo by Element5 Digital on Pexels.com

हां, आपने सही सुना, गाड़ी में मैं अपने लिए ही मुस्कुरा रही हूं।

मुझे खुद से बातें करना अच्छा लगता है।

ये मेरे पल हैं। सब के अलावा मुझे खुद के लिए भी तो खुश होना है।

ये यहीं नहीं रुकता, मुझे गाड़ी में अकेले मुस्कुराते और गाते देख कर शायद कोई राहगीर हंस पड़े।

पर उसे क्या पता मेरी इस लॉन्ग ड्राइव का जादू।

अगली बार आप भी चलिए मेरे साथ। मैंने कई बार अपनी खिड़की से बैठे बैठे आपको देखा है उसी सिग्नल पर।

यदि आपको भी लगता है कि मैं आपकी बात कर रही हूं तो मुझे अभी यहीं बताइए।

अगली बार आप उस सिग्नल पर आएं तो देखना, बायें हाथ तरफ के घरों में से एक घर की खिड़की से मैं आपको बाहर देखती मिल जाऊंगी।

Unauthorised use and/or duplication of this material without express and written permission from this site’s author and/or owner is strictly prohibited.

Excerpts and links may be used, provided that full and clear credit is given to Roshni Shukla, happyheartforever.com with appropriate and specific direction to the original content.

Posted in Food, Happy parenting

खाना? मुझे अपने बच्चे को कब खाना परोसना चाहिए?

खाना? मुझे अपने बच्चे को कब खाना परोसना चाहिए?

खाना? मुझे अपने बच्चे को कब खाना परोसना चाहिए?बच्चों को खाना खिलाना, मां का दिन भर का सबसे बड़ा काम हो सकता है, और सबसे ज्यादा समय लेने वाला भी। इसी बीच जब बच्चे की थाली परोस दी गई है, पर वह नहीं खाता तो, मां, दिन भर उसके खाने की चिंता करती रहती है। ऐसे में एक प्रश्न जो मां के दिमाग में आता है –

मुझे अपने बच्चे को कब खाना परोसना चाहिए?

अक्सर इस प्रश्न के कई तरह के उत्तर मिलते हैं, जो, आस पास के लोग या घर के बड़ों के हम तक पहुंचते हैं।

अक्सर हम पूरे समय बच्चे के पीछे खाना लेकर घूमते रहते हैं। और कई बार हम बच्चे को जबरदस्ती खिलते है।

मुझे अपने बच्चे को कब खाना परोसना चाहिए?

अब आप ये तरीके भी अपनाकर देखें।

  • पूरे दिन खाने के लिए पीछे भागने के बदले, अपने बच्चे को दिन में 3 बार नाश्ता और 2 बार पूरा भोजन दें। 
  • हर दिन लगभग एक ही समय पर भोजन और नाश्ता परोसने का प्रयास करें। 
  • भोजन और नाश्ते का एक योजना बद्ध अनुकरण आपके बच्चे में खाने की आदतों को विकसित करने में मदद कर सकती है।
  • आपके बच्चे को आपके मुकाबले खाने में अधिक समय लग सकता है।
  •  उन्हें खाने को खत्म करने का समय दें। 
  • यदि आपको लगता है कि बच्चे का खाने में मन नहीं लग रहा और वो खाने से खेल कर रहा है, तो उसके सामने के खाना हटा दें, और उसको मेज से उतर कर खेलने छोड़ दें। 
  • इस तरह धीरे से बच्चा ये समझ जाएगा कि खेलना और खाना एक साथ नहीं हो सकता।
  • यदि बच्चे को कोई स्वस्थ से सम्बन्धित दिक्कत नहीं है, और वह रोज खेल कूद कर रहा है तो निश्चित रहें।
  •  बच्चे कभी भी भूखे नहीं रहते, वो अपनी आवशयकताओं के अनुसार खा लेते हैं।
  • बच्चे को दिन भर ना खिलाएं, इससे उन्हें भूख का अहसास नहीं होता।

Happy childhood is every child’s right.

All the best wishes to you on this amazing journey. This will surely give us easy life.

If these tips help you in finding your answer, please comment. You can also comment, if you are having any other questions related to parenting. 

Posted in Blog, Happy childhood

Make precious life lessons

Let’s learn some precious life lessons from the project Rahul got at his school.

(Tuesday morning)

“Rahul,when is your science project submission date. “
“Mumma, it’s next Monday, we still have a week to finish.”
” Rahul, ask your classmates today, what are they making.”
” Why, Mumma?”
“Because, your’s should be the best.”

(Thursday morning)


“Rahul, did anyone deposite their project?”
“Yes, some have done. When will we do our project?”
” Don’t worry, I am there.”

(Saturday evening, after school)


” Rahul, don’t go for playing today, we have to do our project.”

(Sunday)


“Rahul, no playing, we have to decorate our project, it should look the best.”

(Monday, in school)


Teacher: ” Congratulations everyone, for finishing your project works on time. Please come and explain about your project.” Indeed Rahul’s project was well designed and presented.

 But was it needed?Now let’s look at the unseen part of it, to learn our precious life lessons.

Tuesday 2:00 pm, Sarita, Rahul’s mom, had finished all her work, googled all the possible topics for son’s project. She made a list of all the projects, which they can do.
Wednesday, she called some of her friends and relatives to enquire for the best topic to make the project. Then, struck off the common topics from her list.
Thursday 2:00 pm, she deleted the topics that were done by Rahul’s classmates.
Friday she collected all the requirements.
Saturday 2:00 pm, she arranged every thing to one place.Night, Sarita sat with Rahul, after finishing her daily chores. Rahul was sleepy by 11:00 pm so Sarita finished some portions, just to help Rahul.Sunday, They sat again, this time they had to hurry up. Sarita helped him, by finishing most of his work. Rahul’s work was not very neat, so Sarita did the finishing tough to the project.They finished it on time.Monday, Rahul was feeling proud as he was praised by one and all. 

Such a happy ending to the story of making a science project.

But, was it worth? Was it solving the purpose of project work? Was it by anyway helpful to the child? 


You all might not like it, but the answer is NO. A big NO. Was Sarita student of that class? The answer is again NO.

NO. A big NO

Precious life lessons


You can replace mother in this story with father or any other elder. Parent’s mindset puts so much pressure on the learning of the child. It is not Happy parenting. By helping child in work, school projects we are not giving them precious life lessons or stress free childhood. If they do not learn their life lessons, they will not be able to cope up with the ups and downs in life. As long as the effort is done by anyone other than the person it to was meant be, the effort is useless.
It’s not that a child of any age can do their work all alone.
I am just saying, 

BE THE GUIDE, DON’T BE ASSISTANT.

Help him by questions like,

  •  what do you think should be our topic?
  • From where can we get the informative material?
  • Will you just collect some information, then, we will together discuss on the best doable topic.
  • Can you collect the required material, that we have at home, make a list of things we need to buy or arrange. 

And many thought provoking questions like this. 
Let it be your child’s project. 
  

And most importantly, it is not required that it appears best, it should solve it’s purpose the most.

Haha, as a mother, I know, it is tough to control ourselves from taking over the task, but have patience, it is possible.

And believe me, as a teacher, I can assure you, their teacher will like it more, when it is done by your child and not you.

Please make every small experience, a precious learning for life. 

P.s. By making a project by his own, our child is taking small steps towards learning to handle his life.
If you agree to this thought, please like, comment, share and follow. And also comment if you disagree at any point.

We Parents make all efforts to give our child a Happy childhood. While do so, at times we overdo. To know how you can save a preschooler from stress of learning, please read https://happyheartforever.com/2019/07/13/let-me-put-it-differently-to-make-it-a-happy-childhood/

Unauthorized use and/or duplication of this material without express and written permission from this site’s author and/or owner is strictly prohibited. Excerpts and links may be used, provided that full and clear credit is given to Roshni Shukla, happyheartforever.com with appropriate and specific direction to the original content.